Tuesday, 9 July 2013

मेट्रो में बन रही है कपल्स की ब्‍लू फिल्‍म,

      सार्वजनिक जगहों पर ऐसी अश्लील हरकतें! 

   ये जोड़े जो भी ऐसी सार्वजनिक जगहों पर ऐसी अश्लील हरकतें करते हैं ये खुद तो बर्बाद हैं ही देखने वालों को भी बर्बाद कर रहे  हैं।इन्होंने अपनी अश्लील हरकतों से पार्क बैठने लायक नहीं रखे। बेशर्मी की हद यह है कि पर्किंगों,कूड़ेदानों तक के पास चिपक जाते हैं ये लोग! ऐसे प्रकरणों में लडकियाँ भी ख़ुशी ख़ुशी चिपकी होती हैं यदि इन अविश्वासी लड़कों के द्वारा किसी लड़की को विश्वास में लेकर गैंग रेप  टाइप कोई कांड किया जाता है या उसके साथ और कोई अनहोनी होती है तो महिला सुरक्षा और पुरुष विरोध एवं पुलिस को कोसना क्यों शुरू कर दिया जाता है।आखिर इससे यह निर्णय कैसे ले लिया जाता है कि महिलाएँ असुरक्षित ,पुरुष अपराधी एवं पुलिस लापरवाह है ?जबकि इस प्रकार की दुर्घटनाओं के प्रारंभ में लड़कियाँ अपनी ईच्छा से उन प्रेमी नाम के छिपे हुए अपराधियों का साथ  देती हैं बाद में घर वाले अपने बच्चों को पाक साफ बताते घूमते हैं सारा दोष कानून व्यवस्था या केवल पुरुषों पर मढ़ दिया जाता है ?मैट्रो से आई तस्वीरों ने समाज की आखें खोलने का काम किया है और लाकर  कटघरे में खड़ा  कर दिया है समाज में अश्लीलता फैलाने वाले  वास्तविक  दोषियों को !कोई कुछ भी कहे सच्चाई तो सामने आ ही गई।ऐसी हरकतों का समर्थन कोई चरित्रवान स्त्री पुरुष क्यों करेगा ?

     भ्रष्टाचार के इस युग में सरकारी सुरक्षा  पर भी एक सीमा तक ही भरोसा किया जा सकता है।वैसे भी सरकार जो सुरक्षा देती है वह तो है ही,बाकी आत्मरक्षा में किसी भी प्रकार की कोताही अपनी तरफ से भी नहीं बरती जानी  चाहिए ।  कोई कानून कितना भी चुस्त  हो तो भी कोई दुर्घटना घटने के बाद ही अपराधी को दंड दिया जा सकता है,किन्तु  उस समय अपराधी को कितना भी बड़ा दंड दे दिया जाए भले वह फाँसी ही क्यों न हो किन्तु  उससे क्षतिपूर्ति तो हो पाना संभव नहीं होता है।    

      अपराध करने से पूर्व तो हर कोई अपराधी अपराधी नहीं होता है उस समय तो न केवल सभी लोग अपराधी  प्रवृत्ति के लोग भी पकड़े गए  अपराधी को कठोर दंड एवं बलात्कारी को फाँसी की सजा माँगते हैं।लाखों लोग रोडों पर उतर आते हैं।जिंदाबाद ,मुर्दाबाद ,हैजाबाद फैजाबाद करने में किसी का क्या जाता है जो जहाँ जितना चाहे चिल्ला ले किन्तु यहाँ एक सच्चाई हम सभी को स्वीकार करनी होगी कि जितने लोग किसी अपराध के विरुद्ध चिल्लाने लगते हैं वही यदि ईमानदारी पूर्वक अपराधियों के विरुद्ध संगठित हो जाएँ तो भी बहुत बड़ा सुधार संभव हो सकता है ।

     अधिक क्या कहा जाए प्रायः महत्वपूर्ण बड़े लोग सुरा सुंदरी के शौकीन देखे जाते हैं।कई राजनैतिक दलों के लोग भी होते हैं।किसी अपराध में पर पकड़े जाने पर कुछ दिनों के लिए पार्टी से निकाल दिए जाते हैं और शोर शांत होते ही फिर पार्टियों में उन्हें वापस ले लिया जाता है।हरियाणा के एक वृद्ध एक दिन ट्रेन में मिले, वो बलात्कार से लेकर भ्रष्टाचार तक के सभी ऐसे विषयों के सन्दर्भ कह रहे थे कि यदि फाँसी जैसा कठोर कानून बन भी जाए तो भी फाँसी पर लटकाए गरीब ही जाएँगे कोई बड़ा आदमी क्यों फँसेगा ? यदि भूल चूक से ज्यादा हो हल्ला मचने पर कोई बड़ा आदमी पकड़ भी जाए तो उसके साथ अन्य बहुत सारे लोगों की पोल खुलने का भय होता है इसलिए उसे वो सारे प्रभावी लोग मिलजुलकर जल्दी से जल्दी बचा लेते हैं। इसीप्रकार राजनैतिक पार्टियाँ अपने लोगों को पार्टी में फिर से वापस  ले लेती हैं। यह सुनकर मुझे लगा कि आम आदमी सरकार एवं सरकारी तंत्र से इतना निराश है !   

     इसलिए मेरा विचार तो यह है कि यथा संभव अपनी एवं अपने बेटा बेटी की सुरक्षा पर अपना भी ध्यान एवं सतर्कता विशेष वरती जानी चाहिए ।ऐसी वेष भूषा एवं रहन सहन से बचा जाना चाहिए जिससे किसी प्रकार का  उपद्रव संभावित हो।वैसे भी जब राम राज्य में अपराध पूरी तरह नहीं रोका जा सका तो इस भ्रष्टाचार के युग में ऐसी काल्पनिक ईच्छा ही क्यों पालना ?यह राम राज्य तो है भी नहीं !आज पुलिस की भी अपनी सीमाएँ हैं उनसे बहुत अपेक्षा क्यों रखना ?वो अपना दायित्व निर्वाह करते रहें वही बहुत है ।

     कुछ जवान लड़के लड़कियों की सेक्स भूख उन पर इस कदर हावी है कि क्या करना है कहाँ करना है?उन्हें पता ही नहीं है। वे करना क्या चाह रहे हैं तथा कर क्या रहे हैं यह बात आज किसी से छिपी नहीं है। सामूहिक या सार्वजानिक  स्थलों पर चल रही लड़के लड़कियों की रासलीला कामक्रीड़ा  आदि देखकर हर कोई समझ रहा है कि सेक्स के लिए ये जवान लड़के लड़कियाँ कितने परेशान हैं? ये जोड़े कोई मौका मिलते ही एक दूसरे को चूमने चाटने में लग जाते हैं।लिफ्ट में चढ़ने के चन्द्र मिनट भी चिपकने चाटने में निकलते हैं।सभी लोगों के देखते देखते एक दूसरे के शरीरों में कहाँ कब हाथ लगा देंगे कोई भरोस नहीं होता है ।कुछ जवान लड़के लड़कियाँ एक दूसरे के गले में हाथ डालकर चलने लगते हैं।आप ईमानदारी से सोचिए कि इतने प्रेमपूर्वक  सार्व जनिक रूप से दो सगे जवान भाई भी इस युग में रहते या चलते देखे जाते हैं क्या ? ये  या इस तरह के और भी सारे शिथिल आचरण मन की जिस बेचैनी का बयान करते हैं वो सेक्स और केवल सेक्स है इसके अलावा कुछ भी नहीं है ।   

  इस प्रकार से लुकते छिपते हुए छीन झपट कर आधा अधूरा सेक्स सुख पाकर बेचैन युवक युवतियाँ अपने को नियंत्रित रख पाएँगे इसकी संभावना बहुत कम होती है अर्थात वो कभी भी कुछ भी करने पर उतारू हो जाते हैं।सम्पूर्ण सेक्स की अपेक्षा ये आधा अधूरा सेक्स सुख सबसे अधिक घातक होता है।ऐसे लुक छिप कर आधा अधूरा सेक्स सुख भोगने वाले  लोग अधिकतर कहीं जाने आने उठने बैठने के लिए के लिए कम भीड़ भाड़ वाला रास्ता या स्थान ही चुनते हैं। वो कहीं जाने आने के लिए सवारी भी ऐसी ही चुनते हैं जिसमें भीड़ भाड़ बिलकुल न हो जिससे स्वतन्त्र मौज मस्ती का समय अधिक मिल जाता है।बस पर बैठेंगे तो खाली बस देखकर,यहाँ तक कि  आटो पर चलते हैं वहाँ भी चलते समय सारी हरकतें जारी रहती हैं।यही गलत आदतें देखकर कई बार भले लोग भी इन अपराधों में सम्मिलित हो जाते हैं। इसी कारण हत्या, बलात्कार आदि सब कुछ होते देखा जाता है,क्योंकि इसमें सम्बंधित जोड़ा तो आधा अधूरा सेक्स सुख पाकर  बेचैन होता है किन्तु जिसका कोई सम्बन्ध ही नहीं है ऐसा दर्शक उनसे अधिक बेचैन होता है आखिर वो भी तो स्त्रीत्व या पुंसत्व से संपन्न होगा।ये बात हमें भूलनी नहीं चाहिए । यदि किसी के पास सोने की अशर्फियाँ हैं उन्हें देख कर किसी देखने वाले को पाने का लालच हो सकता है।इसी प्रकार अच्छा पकवान देखकर देखने वाले के मुख में यदि पानी आ जाता है और   इनको नहीं रोका जा सकता है तो सबसे अधिक बलवान सेक्स सुख के लालची को कैसे रोका जा सकता है ? विश्वामित्र, पराशर, नारद, सौभरि जैसे ऋषि एवं चौदह हजार स्त्रियों का पति रावण भी सीता को एकांत में अकेली देखकर अपने को रोक नहीं पाया तो आज ऐसे संयम एवं सदाचरण की परिकल्पना ही क्यों करनी?आज तो राम राज्य भी नहीं है फिर ऐसी आशा किससे और क्यों ?

   काम शास्त्र एवं साहित्य शास्त्र में इस प्रकार का वर्णन भी मिलता है -

   ज्ञातः स्वादुः विवृत जघना कः बिहातुं समर्थः?      

अर्थात एक बार आधा अधूरा बासनात्मक सुख का स्वाद पता लग जाने पर फिर उस तरह की परिस्थिति देखकर भी कौन बासनात्मक सुख की ईच्छा छोड़ पाने में समर्थ हो सकेगा ?अर्थात कोई नहीं !

इसी प्रकार आयुर्वेद में शरीर के तीन मुख्य उपस्तंभ बताए गए हैं भोजन, निद्रा और मैथुन अर्थात सेक्स । इनके कम और अधिक होते ही शरीर रोगी होने लगता है।इसलिए भोजन, नींद और बासनात्मक आवश्यकता न बढ़ाई जा सकती है और न ही घटाई  जा सकती है।इसे  रोक पाना अत्यंत कठिन होता है उसमें भी आज कल  विवाह बिलंब से होने लगे हैं जिससे यह और कठिन लगने लगा है।पुराने समय लोग व्रत उपवास करके संयम करते थे ।कुछ लोग योग क्रियाओं के द्वारा उर्ध्वरेता  आदि बन जाते थे जो इस कलियुग में काफी असंभव सा लगता है। 

         इस विषय में देवल ऋषि ने कहा है कि 

  दीर्घकालं         ब्रह्मचर्यं           नरमेधाश्वमेधकौ ।

  इमान् धर्मान् कलियुगे बर्ज्यान्  आहुर्मनीषिभिः।।

अर्थ - लंबे समय तक ब्रह्मचर्य  पालन करना ,नरमेध और अश्वमेध  ये सब बातें कलियुग में  ऋषियों के द्वारा रोकी गई हैं । हो सकता है कि पुराने ऋषियों को कलियुग के ब्रह्मचारियों  का भरोसा ही न रहा हो ।

    विश्वामित्र पराशर प्रभृतयो  वाताम्बु  पर्णाशनाः |

   तेपि स्त्री मुख पङ्कजं  सुललितं दृष्टैव मोहं  गताः||

  अर्थ -विश्वामित्र पराशर  आदि ऋषि पत्ते खाते एवं जल पीकर रहते थे जब  उन्होंने  स्त्रियों का मुख कमल देखा तो अपने  को सँभाल  नहीं सके और मोहित हो गए और किसी को क्या कहा जाए ?

  वैदिक काल से हमारे ऋषि-मुनि सदियों से ब्रह्मचर्य जीवन बिताते आयें हैं।आज भी बहुत सारे  चरित्र वान उर्ध्वरेता ऋषि-मुनि  सांसारिक  भोग बासनाओं एवं  धन दौलत से दूर संयमित जीवन जी रहे होंगे

     इस प्रकार से जब तक ऐसे प्रेम के पाखंडी लोग   झूठ बोलकर लुकछिप कर सेक्स सुख लेते रहते हैं तब तक इस पाखंड को  प्रेम  कहते हैं और जब झूठ का पोल खुल जाए और आपस में न पटने लगे और एक पक्ष जबर्दस्ती प्रेम करने का पाखंड करने लग पड़े तो इसे बलात्कार कहते हैं ,धन आदि का लोभ देकर प्रेम का पाखंड करें तो  इसे व्यभिचार कहते हैं ,और उससे सुंदर कोई दूसरी लड़की या लड़का मिल जाए तो पहली वाली या वाले को दिखा दिखाकर उसके साथ सब सुख भोग करें तो उसे अत्याचार कहते हैं। इसी विधा में आगे चलकर भगने- भगाने, प्रेम  और प्रेमविवाह, आदि की दुखद दुर्घटनाएँ  देखने सुनने को मिलती हैं ।
  जिनका अपने माता पिता भाई बहन आदि समस्त स्वजनों से प्रेम न रहा हो उनसे छिपते छिपाते किसी अन्य लड़के या लड़की के साथ  भगते भगाते सेक्स सुख की तलाश  में व्याकुल भटकते अपवित्र प्रेमी जब अपनों को भूल गए तब परायों का कब तक साथ दे पाएँगे कहा नहीं जा सकता है।जहॉं पहले वाले से अधिक सुंदर कोई नया पार्टनर मिला तो उसी के चिपक गए ये पहले वाले को भूल गए,ये कैसा प्रेम ? पवित्र प्रेम तो जन्म  जन्मांतर तक चलता है।वो कभी घटता नहीं है दिनों दिन बढ़ा ही करता है।



 पवित्र प्रेम और  अपवित्र प्रेम  
   पवित्र प्रेम परमात्मा अर्थात सर्वश्रेष्ठ आत्मा का स्वरूप होता है। पवित्र प्रेम में केवल अपने प्रेमास्पद अर्थात आप  जिससे प्रेम करते हो उसको सुख पहुँचाने की भावना होती है इसमें अपने सुख पाने की कहीं इच्छा  ही नहीं होती है।

     इसी  प्रकार अपवित्र प्रेम दुरात्मा अर्थात सबसे गंदी आत्मा का स्वरूप होता है।अपवित्र प्रेम में सब कुछ पा लेने की ही इच्छा रहती है।अपना प्रेमास्पद अर्थात  जिससे आप प्रेम करते हो वो मरे तो मरे, दुखी हो तो हो केवल अपने को सुख मिलना चाहिए।इस विधा के लोग प्रायः भयंकर कामी अर्थात बासना प्रिय होते हैं। ये केवल अपनी सेक्स सुख की भूख मिटाने के लिए ही
प्रेम करते हैं।जब तक ये लुकछिप कर सेक्स सुख लेते रहते हैं तब तक  तो प्रेम,और जब न पटने लगे और जबर्दस्ती करना पड़े तो बलात्कार,धन आदि का लोभ देकर करें तो व्यभिचार,और उससे सुंदर कोई दूसरी मिल जाए तो पहली वाली को दिखा दिखाकर उसके साथ सब सुख भोग करें तो उसे अत्याचार कहते हैं।      
    पवित्र प्रेम तो कभी भी किसी के साथ भी हो सकता है, इसमें जाति, क्षेत्र, समुदाय, संप्रदाय आदि की कोई सीमा नहीं होती है यहॉं तक कि किसी भी योनि के जीव किसी दूसरी योनि के जीव से
पवित्रप्रेम कर सकते थे।श्रीराम की बानरों से मित्रता हुई,दशरथ और गृद्ध की मित्रता, श्रीकृष्ण का गायों और गोपिकाओं से प्रेम था।जो लोग श्रीकृष्ण और गोपिकाओं के प्रेम को बासना की दृष्टि से देखते हैं वे न जानें श्रीकृष्ण  और गायों के प्रेम को किस दृष्टि से देखते होंगे।वे चातक और स्वाती बूँद का प्रेम,मछली और जल का प्रेम , दीपक और पतिंगे का प्रेम,कमल और सूर्य का प्रेम ,भौंरा और पुष्प का प्रेम , चंद्र और चकोर आदि के प्रेम को न जाने किस दृष्टि  से लेंगे? प्रेम शब्द  के स्नेह,अनुग्रह,कृपापूर्ण मधुर व्यवहार आदि अनेक अर्थ होते हैं। कृपापूर्ण मधुर व्यवहार जिसके साथ भी किया जाएगा उस पर कभी क्रोध आता ही नहीं है क्योंकि कृपापूर्ण मधुर व्यवहार करने वाले के मन में अपने प्रेमी के प्रति इतनी उदारता होती है कि उसके दोष  दिखाई ही नहीं पड़ते।उससे कुछ पाने की लालषा ही नहीं होती है।वहॉं तो सब कुछ सौंप देने की ईच्छा ही उठती है। 
    यहॉं विशेष बात यह है कि जो लोग प्रेम को बासना अर्थात सेक्स मानते हैं उन्हें राधा और कृष्ण एवं मीरा और कृष्ण का प्रेम तो समझ में आता है क्योंकि मूर्खता वश वहॉं उन्हें बासना अर्थात सेक्स की संभावना दिखती है।चूँकि उन्होंने सेक्स को ही प्रेम माना है।श्रीराधा और कृष्ण के प्रेम को परिभाषित करते समय यह ध्यान रखना बहुत आवश्यक है कि राधा का कृष्ण से वह प्रेम था जो गोपी,ग्वालों,गायों,समेत सभी प्रकार के जीव- जंतुओं,पेड़-पौधों ने जो प्रेम श्री कृष्ण  से बना रखा था वही प्रेम भगवती राधा ने भी श्री
कृष्ण  से किया था।इतना अवश्य  था कि श्री कृष्ण  के प्रति भगवती राधा का समर्पण औरों की अपेक्षा बहुत अधिक था। एक और विशेष बात यह है कि श्रीराधा जी को स्त्री माना भी नहीं गया है अन्यथा श्रीराधा की जगह श्रीमती राधा लिखा जाता।राधा जी के कोई संतान भी नहीं थी।वे तो दिव्य शक्ति थीं ।  
    इन सब ज्ञानबर्द्धक बातों का विस्मरण करते हुए न्याय करने के लिए जिम्मेदार पदों पर बैठे कई आधुनिक शिक्षा से शिक्षित लोगों से भी प्रेम को परिभाषित करने में अनेकों बार चूक हुई है,और
 आम आदमी के प्रेम को श्री राधा कृष्ण के पवित्र प्रेम की बराबरी में लाकर खड़ा कर दिया गया । ऐसे पढ़े लिखे लोगों से भी इस विषय में न्याय की आशा  ही क्यों करनी? क्योंकि हो सकता है कि यह उनका विषय ही न रहा हो? वैसे भी राधा और कृष्ण के प्रेम की व्याख्या किसी को भी यदि इतने ही अयोग्यता पूर्ण ढंग से करनी थी तो इसमें पढ़ाई लिखाई की जरूरत ही क्या थी ?ऐसी चर्चाएँ  तो बिना पढ़े लिखे लोग भी आपस में किया ही करते हैं?उन्हें समझाने के प्रयास तो होने ही चाहिए किंतु तथाकथित पढ़े लिखों का तो भगवान ही मालिक है।जो सब जगह और सबमें केवल सेक्स ही ढूँढते हैं। 
    प्यार का वास्तविक अर्थ जो हो सो हो किंतु अब धीरे धीरे प्यार का अर्थ बासना अर्थात सेक्स ही बनता जा रहा है।
अनियमितअनिश्चित अनधिकारिक अमर्यादित और बेशर्म होकर लड़के लड़कियों का एक दूसरे से अंग्रेजी में बासना सुख की भीख मॉंगना ही प्यार का अर्थ है क्या?इससे ज्यादा कुछ हमसे तो समझा नहीं जा सका हो सकता है कि विशेष बुद्धिमान लोग इसका कुछ विशेष अर्थ समझावें किंतु मेरी शंका  निराधार नहीं है।       

 बासना सुख के बिना ब्याकुल तड़पती  तरुणाई बागों, पार्कों, स्कूलों, गाड़ीपार्किंगों, कूड़ेदानों, झाड़ियों, मैट्रो स्टेशनों आदि ऐसी अनंत ऐकांतिक जगहों पर एक दूसरे को चूमने, चाटने, चिपकने में व्यस्त प्रायः दिखते हैं। वर्त्तमान समय में दो बिपरीत लिंगी युवा वर्ग में जो कुछ प्यार के नाम पर चल रहा होता है उसे प्यार नहीं कहा जा सकता है। यदि है भी तो वह अपवित्र प्रेम हो सकता है,वह दुरात्मा अर्थात सबसे गंदी आत्मा का स्वरूप होता है।वह परमात्मा का स्वरूप कतई नहीं होसकता है।    
   आजकल कामेडी शो  से लेकर अन्य फिल्म, सीरियल आदि जगहों  के हास्य ब्यंग एवं तथाकथित कवि सम्मेलनों में केवल लड़की,और लड़की पट गई या लड़की नहीं पटी,या सुहागरात,या बेलेंटाइन डे यही तो चर्चाएँ होती हैं टॉफी गोली की तरह लड़कियॉं एवं उनकी शिथिल चर्चाएँ परोसी जा रही होती हैं।हर प्रकार के विज्ञापनों का यही हाल है।हर ज्योतिषी  ने एक सुंदर सी लड़की झूठी तारीफ करने के लिए अपने साथ बैठाई होती है क्योंकि उसे भी पता होता है कि हमारी बातों में विद्या में तो दम है नहीं शायद इस लड़की के बहाने ही कुछ लोग हमें देख लें मजे की बात यह है कि वो सब अर्थ प्रायोजित है।
   इस प्रकार सबकुछ बिक रहा या बेचा जा रहा है।शरीरों पर ही हास्य ब्यंग हो रहे हैं सुंदर युवा शरीर पहले अर्द्धनग्न वेष  भूषात्मक अवस्था में खड़े किए जाते हैं फिर उनकी भाषात्मक छीछालेदर की जाती है।जिसे सुनकर तथाकथित राजा महराजा रूपी दर्शक यह सोचकर खुश हो रहे होते हैं कि हमारी बेटी के बिषय में तो कहा नहीं जा रहा है,इसलिए हॅंसो और हॅंसो, खूब हॅंसो, हॅंसने में क्या जाता है अपना?
 

  जिस दिन अपने और पराए की यह कलुषित  भावना छूट जाएगी उस दिन महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों से समाज को मुक्ति मिलेगी।
    आज कथाबाचक,महात्मा एवं मीडिया लगभग सभी वर्गों में धार्मिक स्वाध्याय को लेकर न जाने क्यों निराशा  सी दिख रही है।
    फिल्मी गानों में धार्मिक चरित्र राधा का नाम आने पर उसके विरोध में भाजपा की वरिष्ठ  नेत्री एवं हिंदू संगठनों ने गंभीर गर्जन किया या कहें कि बॅंदर घुड़की दी फिर मामला शांत  हो गया।इन फिल्मी लोगों को पहले से ही पता होगा कि ये लोग ऐसा ही करेंगे
फिर  शांत  हो जाएँगे । मीडिया ने भी इस मुद्दे में दम नहीं देखा तो शांत हो गया।ऐसे में सनातन धर्म के सशक्त प्रहरियों को अपने धार्मिक प्रतीकों की गौरव रक्षा के लिए विरोध का स्वर और अधिक ज्वलंत करना चाहिए। 

राजेश्वरी प्राच्यविद्या शोध  संस्थान की अपील 

   यदि किसी को केवल रामायण ही नहीं अपितु  ज्योतिष वास्तु धर्मशास्त्र आदि समस्त भारतीय  प्राचीन विद्याओं सहित  शास्त्र के किसी भी नीतिगत  पक्ष पर संदेह या शंका हो या कोई जानकारी  लेना चाह रहे हों।शास्त्रीय विषय में यदि किसी प्रकार के सामाजिक भ्रम के शिकार हों तो हमारा संस्थान आपके प्रश्नों का स्वागत करता है ।

     यदि ऐसे किसी भी प्रश्न का आप शास्त्र प्रमाणित उत्तर जानना चाहते हों या हमारे विचारों से सहमत हों या धार्मिक जगत से अंध विश्वास हटाना चाहते हों या राजनैतिक जगत से धार्मिक अंध विश्वास हटाना चाहते हों तथा धार्मिक अपराधों से मुक्त भारत बनाने एवं स्वस्थ समाज बनाने के लिए  हमारे राजेश्वरीप्राच्यविद्याशोध संस्थान के कार्यक्रमों में सहभागी बनना चाहते हों तो हमारा संस्थान आपके सभी शास्त्रीय प्रश्नोंका स्वागत करता है एवं आपका  तन , मन, धन आदि सभी प्रकार से संस्थान के साथ जुड़ने का आह्वान करता है। 

       सामान्य रूप से जिसके लिए हमारे संस्थान की सदस्यता लेने का प्रावधान  है। 

 


 

                                                                        -----    Blogger -Swasth Samaj, Dr.S.N.Vajpayee  

                                                             

        

No comments:

Post a Comment